shabd-logo

आम का पेड़

6 November 2022

35 Viewed 35
मेरे घर के सामने  
आम का विशाल वृक्ष
आम से लदा हुआ
हर किसी का स्वागत करता है
जो भी जाता है उस रास्ते पर
बरबस ही उसकी दृष्टि
ऊपर उठ जाती है पेड़ की ओर
लदे आमो की टहनियों पर
जो नीचे झुकी हुई है
सबको बुला रही हैं
अपनी और बिना भेदभाव के
लो आ गई बंदरों की टोली
आज भरपेट आम खाएगी
कुछ खाएगी कुछ गिराएगी
जो गिरेंगे नीचे
उसे लोग खुश होकर उठाएंगे
फिर सबको बताएंगे
बंदरों ने कितने आम  गिराये
आज उन्होंने कितने आम पाए
लो आ रही है आवाज
कोयल के सुरीले गानों की
चिड़ियों के चहचाहने की
वे भी आम खा रही है
गुठलियाँ नीचे गिरा हमें चिढ़ा रही हैं
लो आ गई फौज बच्चों की हाथों में डंडा लिए
कुछ ने पत्थर हाथों में उठाए
कुछ पेड़ पर चढ रहे हैं
कुछ आम लपक रहे हैं
।आम के पेड़ का मालिक 
बार-बार उन्हें उन्हेंभगाता है
बार-बार उन्हें धमकाता है
पर मालिक के घर के अंदरजाते ही
वे फिर से तोड़ने आ जाते हैं
लो आ गई आंधी रे
आंधी के साथ पानी रे
लोग देख रहे हैं
झड़ रहे आमो को
उठा कर लाएंगे वे
धोकर खाएंगे वे
खुश होंगे पाकर आम
सोचती हूं आम के 
एक पेड़ ऩे हीं
ना जाने कितनों 
को तृप्त किया
अपनी आंमो से 
अपनी छाया से
सबका वह मन में बहलाता है
सबको वह अपने पास बुलाता है
मारता जो पत्थर उसे
सीचता जो पानी से उसे
रौंदता जो पत्तियों को उसकी
जो पूजा करता है उसकी
वह समान रूप से देता है उनको आम
बिना भेदभाव किए हुए
उसके मीठे आम, रसीले आम
मानवता को तृप्त करते हैं
फिर मानव क्यों हमेशा
अपने पराए का बीज बोता है
ईष्या द्वेष को अपने मन में ढोता है
मित्र और शत्रु की परिभाषा गढ़ कर
ना कभी चैन से सोता है
ना चैन से खाता है
ना चैन से रहता है
अनगिनत भयों से डरकर
अपने को खोता है
हे मानव तू भी
वृक्ष की तरह सिर्फ देना सीख
फिर देख तेरी जिंदगी बदल जाएगी
परोपकार की आग में
यह सृष्टि भी संवर जाएगी। 
                                    (©ज्योति)
13
Articles
Jyoti Maheshwari's Diary
0.0
This is the book who express my words my feelings and relevant problems of society in the terms of poetry by this book I want to say some my feelings कुछ अनकहे शब्दों को बांधने का प्रयास है यह कुछ अनकहे शब्दों को कहने का प्रयास है यह
1

हिम्मत

4 November 2022
8
1
6

लहरों से टकराकर नौकाहिम्मत कभी छोडती नही जूझती रहती है वह हरदम तभी तो मंजिल अपनी खोती नहीं. &nbsp

2

Kya likhun kaise likhu

4 November 2022
2
0
0

क्या लिखूं कैसे लिखूंमेरे पास कोई कहानी नहींकल सड़कों पर हुआ दंगाइन आंखों से अश्रु गिरा देता हैखून से लथपथ धरतीसड़क पर फैली लाशेंहाथों को कॅंपा देती हैक्या लिखूं कैसे लिखूसोचती हूं दोनों ही तो आदमी थे

3

Zindagi

4 November 2022
2
0
0

जिंदगी एक मेला हैजिसका हर रंग अलबेला हैकोई रो कर जी रहा हैकोई हंस कर दर्द पी रहा हैकोई मिल रहा हैकोई बिछुड़ रहा है जिं

4

Shanti

4 November 2022
1
0
4

लौट जाना चाहती हूं मैं फिर

5

Saccha Prem

4 November 2022
2
0
0

प्रेम की परिभाषा खोजती मै आज जान पाई हूंदेह और मन से ऊपर आत्मा को खोज पाई हूंआत्म प्रेम का एक लम्हा &

6

उड़ान दो आकाश में

4 November 2022
0
0
0

मुझे मत रोको उड़ने दो आकाश में नहीं काटो मेरे पंखों कोकरने दो बात गगन से मैं आजाद पंछी हूं आजाद पंछी ही रहने दोमत डालो बेड़िया मेरे पैरों मेंमैं लहूलुहान हो जाऊंगीफिर मैं कैस

7

आम का पेड़

6 November 2022
0
0
0

मेरे घर के सामने आम का विशाल वृक्षआम से लदा हुआहर किसी का स्वागत करता हैजो भी जाता है उस रास्ते परबरबस ही उसकी दृष्टिऊपर उठ जाती है पेड़ की ओरलदे आमो की टहनियों परजो नीचे झुकी हुई हैसबको बु

8

Stri Hun main

7 November 2022
0
0
0

स्त्री हूं मैंसृष्टि का आधार हूं मैंईश्वर की अनुपम कृतिभगवती का अवतार हूं मैं जब जब राक्षसीप्रवृत्तिया बढीधरा पर परेशानियां पड़ीतब तब दुर्गा का रूप धरेचंडी का अवतार हूं मैंमां की वात्सल्य ममताबहन

9

Aaj Ganga ke kinare

8 November 2022
0
0
0

पवित्र पावन गंगाआज तेरे चरणों में बैठकरमैं गीत गुनगुनाना चाहती हूंआज तेरी आती जाती लहरों के साथमैं अठखेलियां करना चाहती हूंआज तेरे पानी में अक्स देखकरबच्चों की तरह मचलना चाहती हूंआज तेरी आरती का दीप ज

10

Ummid ki Kiran

9 November 2022
0
0
0

घनी अंधेरी रातों मेंएक छोटा सा दीप किसी ने जलायामानो उम्मीद की किरण देकरदुनिया को समझायाउम्मीद की एक छोटी सी किरणजीवन बदल देती हैसफलता की छोटी सी उड़ानमंजिलों को कदम देती हैहे मानव तू नित क्यों,भ

11

टूट गई एक कली

10 November 2022
1
1
2

टूट गई एक कलीआज अपनी डाल सेरो रही थी शाखअभी तो खिली भी नहीं थी वहटूट कर क्यों गिर गईफूल बनने से पहलेवह मुझसे बिछड़ क्यों गई?पर क्या उत्तर दूं मैं उसेसृष्टि के चक्र के आगे ्किसी की चलती नहीं

12

बाल दिवस पर आज मैं

14 November 2022
0
0
0

आज बाल दिवस मैंनेबच्चों के साथ मनायाखूब खेल कर खेलउन्हें खेलों का महत्व बतायागुनगुनाए कुछ गीत उनके साथबनाए कुछ चित्र रंग-बिरंगेफिर हंसी उनके साथ,उनके भोले चेहरों मेंउनके भोले सवालों मेंफिर मुझे मेरा ब

13

Childhood pleasure

11 January 2023
0
0
0

Childhood is a special time in everyone’s life full of innocent joy, a time to learn and explore the world around us. Memories of childhood are some of the most cherished and remembered experiences we

---