shabd-logo

कहानी अभ्यास

5 May 2024

13 Viewed 13
     जब संसार में अन्याय बढ़ने लगा।चारों तरफ मारपीट हत्या गरीबों को सताया,जाने लगा तो संसार को चलाने वाले देवो के देव महादेव ने शंख बजाने से मना कर दिया । शिवजी द्वारा जब तक शंख नहीं बजाया जाता तब तक इस ब्रह्मा जी द्वारा रचित इस संसार में वर्षा नहीं होती। अब सुखा अकाल पड़ने लगा सालों साल बीत गए,इसी बीच शिव -पर्वती आकाश मार्ग से मृत्यु लोक का भ्रमण कर रहे थे, तभी उन्होंने देखा एक किसान हल लिए खेत में बीज बो रहा है। शिव -पर्वती ने साधारण मनुष्यों का रुप धारण कर उस किसान के पास पहुंचे। किसान से काफी सालों से वर्षा की एक बूंद ज़मीन पर नहीं गिरी फिर किस आशा से खेती कर रहे हो। किसान उन दोनों की तरफ देख कर बोला मेरा कर्म है खेती करना अगर मैं हल चलाना छोड़ दूं तो मैं हल चलाना भूल जाऊंगा। इतना सुनते ही शिव जी ने सोचा काफी साल हो गए शंख बजाए कहीं भूल तो नहीं गया हूं उन्होंने ने तुरंत शंख निकाला और उसे बजाया जिससे जोरदार वर्षा होने लगी, चारों तरफ खुशियां छा गई।             शिक्षा - कोई भी काम हो व्यक्ति को अभ्यास करते रहना चाहिए।