shabd-logo

Chapter 1

19 November 2022

55 Viewed 55
स्थल:सूरज गढ़
गुजरात

एक काली अंधेरी रात है.
चन....चन..... पायल की आवाज आ रही है। 
तुम यहां क्या कर रही हो?
मै तुम्हे अकेले नहीं छोड़ शकती।
पर तू भाग झा।जल्दी जा वरना वो लोग आ जाएंगे।भाग... भाग...

 आरोही.....आरोही....
उठो यार क्या बके जा रही हो।जल्दी छे तैयार हो जा कॉलेज के लिए लेट हो रहा है।कब की उठा रही हूं। ऑटो वाले के नखरे पता तो है।यार पहले दिन ही कॉलेज लेट नहीं जाना जाती मै यार come fast yaar.

अरे हा बाबा जल्दी ही कर रही हूं।अभी तो सुबह के 6 बजे है।क्या यार तुम भी थोड़ा आराम करने देती।पता तो है जूनागढ़ छै अहमदाबाद आने मै इंसान थक जाता है।

ok ok बहोत हुआ तुम्हारा ड्रामा बचपन छे जानती हू।जल्दी कर अब चलते है।

स्थल: अहमदाबाद
कॉलेज कैंपस

आरोही तुम्हे नहीं लगता ये कॉलेज रूखा सूखा है।
मतलब!
मतलब ये कि कोई लड़का ही नहीं दिख रहा।
अनन्या पता है ना हम गर्ल्स कॉलेज मै है।
किसने कहा हम गर्ल्स कॉलेज मै है।
क्यों एडमिशन लेटर नहीं देखा।
हा पर हमारी कॉलेज के बाजू मै देख enginner कॉलेज।
दोनों देख के हस देती है।

अनु तू बिल्कुल पागल है। 
अभी हमें सिर्फ पढ़ाई में ध्यान देना है। बस.

आरोही मन ही मन क्या था वो सुबह वाला सपना यार जो भी था डरावना था।

सोचते ही उससे कार नजदीक आ जाती है।
अबे ओ बहरी लड़की सुनाए नहीं दे रहा कब से हॉर्न मार रहा हूं।
अगर सुसाइड करना है तो कहीं और जा के कर।

ये सुनते ही आरोहि एक दम गुस्सा हो जाती है।
अबे ओ गधे तुम साइड मै नहीं चला सकता। उतर नीचे दिखती हूं तुझे वो कहते ही वो पास जाते ही कुछ अजीब फील होता है।तभी अनु आ जाती है। sorry  
1
Articles
एक अनसुनी प्रेमकहानी
0.0
ये एक अदभुत प्रेम कहानी है.प्रेम धोका और बदला की दिलचस्प कहानी का एक संगम है.और चलिए इस कहानी के साथ एक अलग दुनिया की यात्रा कर आते है.